You are currently viewing Paheliyan – 431 se 440 tak

Paheliyan – 431 se 440 tak

Paheliyan , पहेलियों की दुनिया में आपका स्वागत है, जहां रचनात्मकता और बुद्धि हमारे दिमाग को चुनौती देने और मनोरंजन करने के लिए एक साथ आते हैं। पहेलियां सदियों से मानव इतिहास का हिस्सा रही हैं, जो हमारे दिमाग का व्यायाम करने और हमारे समस्या को सुलझाने के कौशल का परीक्षण करने का एक मजेदार तरीका प्रदान करती हैं। प्राचीन सभ्यताओं से लेकर आधुनिक समय की पॉप संस्कृति तक, पहेलियों ने कई रूपों और विविधताओं को अपना लिया है, प्रत्येक अपने तरीके से अद्वितीय है। इस ब्लॉग में, हम पहेलियों की आकर्षक दुनिया का पता लगाएंगे, जिसमें क्लासिक ब्रेन टीज़र से लेकर नई और नई चुनौतियाँ शामिल हैं। खोज की इस यात्रा में हमसे जुड़ें और देखें कि क्या आपके पास रहस्य को सुलझाने के लिए क्या है। क्या आप अज्ञात की चुनौती लेने के लिए तैयार हैं? चलो शुरू करें!

Paheliyan:

431 

ऐसा क्या है जिसे हम नहीं सकते, पर देख सकते है ?

उत्तर – सपना 

432 

पाँच अक्षर का  नाम, उल्टा -सीधा समान ?

उत्तर – मलयालम 

433 

 वह कौन सी चीज है जो धुप में नहीं सुख सकती ?

उत्तर – पसीना 

434 

सिर पर कलगी पर मैं न चंदा, गरजे बादल, निचे बन्दा ?

उत्तर – मोर 

435 

तीन पैर की  तितली, नहा – धोकर निकली?

उत्तर – समोसा 

436 

काला हूँ, कलूटा हूँ, हलवा  खिलाता हूँ ?

उत्तर – कड़ाई 

437 

छोटा हूँ  बड़ा कहलाता, रोज दही की नदी में नहाता ?

उत्तर – दही बड़ा 

438 

गोल – गोल चेहरा,पेट से रिश्ता गहरा ?

उत्तर – रोटी 

439

कभी बड़ा हो कभी हो छोटा, माह में  दिन मारे गोता ?

उत्तर – चंद्रमा 

440 

मंदिर  इसे शीश नवायें, मगर राह में ठुकराये ?

उत्तर – पत्थर 

More Paheliyan to read:

Paheliyan with answer

Hindi paheliyan

Dimagi paheliyan with answer

Majedar hindi

Hard paheliyan with answer

Paheliyan hindi

Paheliyan paheliyan

Hindi mein paheliyan

New paheliyan

View all stories

Check out our daily hindi news:

Breaking News

Entertainment News

Cricket News

Tags: paheliyan

Leave a Reply