Paheliyan  681 se 690 tak

अजब है उसकी डेढ़ी चाल, कपड़े जैसा बदले खाल, पीकर दूध जहर उड़ेले, दिख जाए, तो चैन ही ले। उत्तर – सांफ

दो सींग एक छोटी पूंछ, दाढ़ी संग नाम – भर मूंछ। उत्तर – बकरा

दही से थोड़ा लिया, और दूध में दिया। मिसाल दे सुसंगत का, रोज – रोज यही क्रिया। उत्तर – जामुन

धुप लगे सूखे नहीं, छांह लगे कुम्हलाय। कहो कौन – सी चीज है, पवन लगे, मर जाय। उत्तर – पसीना

हाथ – पैर व पंख नहीं, आग है इसकी माता, हवा सहारे ऊपर निचे, रुई – सा बिछ जाता। उत्तर – धुआं

नसें दिखाई देत हैं, रची गई है महीन। चट आई पट पड़ गई, लेटो होकर लीन। उत्तर – चटाई

काती – ओटी कभी नहीं, बनी न पांव पसार। छः महीना ओढ़ के, कातिक धरि उतार। उत्तर – केंचुल